सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

क्या आप भी महीने में 30 हजार रुपये कमाना चाहते हैं? सरकार की इस स्टार्टअप पर 2.50 लाख तक की सहायता।


 केंद्र सरकार जन औषधि केंद्रों की संख्या बढ़ाने जा रही है।  2020 के अंत तक, देश के सभी हिस्सों में एक जन औषधि केंद्र खोला जाएगा, जहां ग्रामीण स्तर पर लोगों को सस्ती और गुणवत्तापूर्ण जेनेरिक दवाएँ मिल सकेंगी। सरकार की यह घोषणा उन लोगों के लिए है जो इस क्षेत्र में व्यवसाय करना चाहते हैं। देश में अब तक लगभग 5,000 जन औषधि केंद्र खोले गए हैं। तो आप भी जन औषधि केंद्र खोलकर लगभग 30 हजार महीने कमा सकते हैं। तो चलिए जानते हैं कि आप एक जन औषधि केंद्र कैसे खोल सकते हैं।


जन औषधि केंद्र से जुड़ी कुछ बाते, इस योजना का लाभ कौन उठा सकता है?

  •  पहली श्रेणी में कोई भी बेरोजगार फार्मासिस्ट, डॉक्टर, पंजीकृत मेडिकल प्रैक्टिशनर यह स्टोर खोल सकता है।
  •  दूसरी श्रेणी में ट्रस्टों, NGO, निजी अस्पतालों, समाज और स्वयं सहायता समूहों को स्टोर खोलना मौक़ा मिलेगा। 
  •  तीसरी श्रेणी में राज्य सरकार द्वारा नामित एजेंसी यह स्टोर खोल सकती हैं।
  •  स्टोर खोलने के लिए 120 वर्गफुट क्षेत्र में स्टोर होना आवश्यक है।

यह भी पढ़ें: BS-4 श्रेणी के वाहन गलती से भी न खरीदें क्योंकि …

सरकार से 2.5 लाख की सहायता मिलेगी।

  •   जन औषधि केंद्र खोलने की कुल लागत 2.5 लाख रुपये तक होगी। और जन औषधि केंद्र खोलने वाले को 2.5 लाख रुपये की सरकारी सहायता दी जाएगी।
  •   जन औषधि केंद्र खोलने वालों को सरकार द्वारा 650 से अधिक जेनेरिक दवाएँ प्रदान की जाएंगी।
  •   केंद्र खोलने के लिए एप्लिकेशन फ़ि और प्रोसेसिंग फ़ि भी समाप्त कर दि जाएगी।


 सरकार से 2.5 लाख रुपये की मदद कैसे मिलेगी?

  •  जन औषधि केंद्र शुरू करने से पहले आपको  पहले 1 लाख रुपये की दवाईया ख़रीदनी होंगी। बाद में सरकार इसकी भरपाई करेगी।
  •  दुकान खोलने, डेस्क बनाने, फ्रिज खरीदने में सरकार आपको 1 लाख रुपये तक की मदद करेगी।
  •  जेनरिक सेंटर खोलने के लिए सरकार आपको कंप्यूटर जैसे सेटअप पर 50,000 रुपये तक की धनराशि भी वापस करेगी।

इस तरह आप आय अर्जित कर सकेंगे।

  •  जो भी दवा आप महीने में अपने केंद्र से बेचते हैं, उन दवाओं का 20% लागत आपको कमीशन के रूप में मिलेगा, ट्रेड मार्जिन के अलावा, सरकार आपको मासिक सेल पर 10% प्रोत्साहन देगी, जो आपके बैंक खाते में आएगा।
  •  इस तरह, दुकानदार को ट्रेड मार्जिन के अलावा प्रोत्साहन के रूप में दोहरा लाभ होगा। यानि अगर दुकानदार 1 महीने में 1 लाख रुपये तक की दवाइयां बेचता है, तो वे 25 से 30 हजार रुपये मासिक कमाएंगे।
  •  दवाइयों की बिक्री पर प्रति माह प्रोत्साहन 10% है। हालांकि, उसकी सीमा अधिकतम 10,000 रुपये रखी गई है।



 इस तरह से अप्लाई करें।

  •  एक जन औषधि केंद्र खोलने के लिए, आपके पास जन औषधि केंद्र के नाम से रिटेल ड्रग्स सेल करना का लाइसेंस होना चाहिए।
  •  स्टोर खोलने की इच्छा रखने वाले व्यक्ति या एजेंसियां ​​https://janaushadhi.gov.in/ पर जाकर फॉर्म डाउनलोड कर सकते हैं।
  •  आवेदन को ब्यूरो ऑफ फार्मा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग ऑफ इंडिया के पते पर जनरल मैनेजर के नाम से भेजना होगा।
  •  जन औषधि की वेबसाइट पर ब्यूरो ऑफ फार्मा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग ऑफ इंडिया के बारे में अधिक जानकारी उपलब्ध है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेलनेस सेक्टर एक ऐसा करियर है जो जीवन में नई ऊर्जा का संचार करता है।

शरीर, मन और मस्तिष्क की थकान दूर करने और अपने जीवन को नई ऊर्जा से भरने का काम वेलनेस सेक्टर में किया जाता है। वेलनेस सेक्टर का विश्वव्यापी मार्केट 87.23 मिलियन डॉलर, यानी कि क़रीबन 6 बिलियन रुपये से अधिक है। हर युवा अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद एक अच्छी नौकरी की उम्मीद करता है। कौन नौकरी पसंद नहीं करता है जिससे लाखों रुपये का पैकेज मिलता हो, लेकिन एक अच्छी सैलॅरी वाली नौकरी पाने के लिए एक अच्छे क्षेत्र से पढ़ाई करना भी आवश्यक है ? नहीं यह सिर्फ एक गलत धारणा है, क्योंकि यह केवल इंजीनियरिंग या मैनेजमेंट में महारत हासिल करने के बाद संभव नहीं हो पाता है। वेलनेस सेक्टर से संबंधित कोर्स करके भी अच्छी आय अर्जित की जा सकती है। जबकि MBA या इंजीनियरिंग कोर्स करने वाले युवा भी इन दिनों आसानी से नौकरी नहीं पा सकते हैं, वेलनेस सेक्टर युवाओं को अच्छी नौकरी दे सकता है। यह इस कारण से है कि युवा अब वेलनेस सेक्टर को चुन रहे हैं। इस क्षेत्र में योग, ध्यान, पंचकर्म, पिलेट्स, माइंडफुलनेस, ज़ुम्बा, ज़ेन, एक्यूपंक्चर, एक्यूप्रेशर, अरोमाथेरेपी, स्पा, हीलिंग थेरेपी, फिजियोथेरेपी और रिट्रीट सेंटर जैसी कई गतिवि

अब बिना नेटवर्क के भी फोन पर कॉल की जा सकती है, VoWiFi के जरिए।

अब बिना नेटवर्क के भी फोन पर कॉल की जा सकती है, VoWiFi के जरिए। अगर आप airtel या Jio सिम कार्ड का इस्तेमाल कर रहे हैं तो यह जानकारी आपके लिए है क्योंकि आप बिना मोबाइल नेटवर्क से भी आपके मोबाइल फोन पर आराम से बात कर सकते हैं।  airtel और jio ने अपनी Voice Over WiFi सेवा VoWiFi को लॉन्च कर दिया है। अब तक 4G यूजर्स VoLTE के जरिए कॉल करते थे, यानी Voice Over LTE पर अब WiFi के जरिए वॉयस Voice Over WiFi  (VoWiFi) के जरिए भी कोल कर सकते हैं। VoWiFi क्या है? WiFi के जरिए Voice Over WiFi  (VoWiFi) अपना काम करता है। इसकी Voice Over Ip को VoIp भी कहा जाता है।  VoWiFi से आप घर के WiFi, पब्लिक WiFi और WiFi हॉटस्पॉट के उपयोग से कॉल कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपके मोबाइल में नेटवर्क नहीं है, तो आप किसी भी WiFi या हॉटस्पॉट के माध्यम से फोन पर आराम से बात कर सकते हैं। VoWiFi का सबसे बड़ा लाभ रोमिंग में होगा, क्योंकि आप मुफ्त में WiFi के माध्यम से बात करेंगे। अपने फोन पर WiFi से कैसे बात करें? अगर आपको अभी भी समझ नहीं आ रहा है कि VoWiFi कॉलिंग क्या है, तो हम आपको उदाहरण के द्वा

फ्लोरल डेकोरेशन या फ्लावर डिजाइनिंग में अपना करियर बनाइए।

फ्लोरल डेकोरेशन और फ्लावर डिजाइनिंग के बिजनेस में भी दिन-ब-दिन बढ़ोतरी हो रही है। अगर हम भारत की बात करें तो फूलों के उद्योग का बाजार 100 करोड़ रुपये से अधिक है। फूलों का उपयोग कई तरह से किया जाता है। यदि आप फूलों की सजावट में रुचि रखते हैं, तो इसमें कई करियर्स स्कोप हैं। इतना ही नहीं, आप भारत में एक फ्लावर्स डिजाइनर के रूप में अपना स्वतंत्र व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं। फूलों की सजावट को हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा कहा जा सकता है। जन्मदिन, स्वर्ण वर्षगांठ, त्योहारों, कार्यालय बैठकों, कार्यक्रमों, सम्मेलनों और शादियों में फूलों की सजावट को प्राथमिकता दी जाती है। फूलों का उपयोग दवा और कई खाद्य संबंधित वस्तुओं में भी किया जाता है। यही नहीं, फ्लोरल डेकोरेशन और फ्लावर डिजाइनिंग के बिजनेस में भी दिन-ब-दिन बढ़ोतरी हो रही है। अगर हम भारत की बात करें तो फूलों के उद्योग का बाजार 100 करोड़ रुपये से अधिक है। फूलों की सजावट की कला दुनिया भर में दशकों से है, क्योंकि फूलों और उनके सजावट का उपयोग हमारी दिनचर्या में विभिन्न सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक उत्सवों में किया जाता है। राजनीति से लेकर