सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आपके फेसबुक अकाउंट कीमत कितनी हैै? और आपके फेसबुक अकाउंट के जरिए फेसबुक कैसे कमता हैै अरबों रुपए?


 फेसबुक हर साल अरबों रुपये कमा रहा है। फेसबुक की कमाई दो तरीकों से होती है। पहला फेसबुक पर विज्ञापन और सामग्री प्रचार के माध्यम से और दूसरा आपके डेटा के माध्यम से। डेटा के अनुसार एक अमेरिकी फेसबुक यूजर्स की फेसबुक प्रोफाइल की कीमत भारतीय रुपये में 10,000 रुपये से भी अधिक होती हैं। अब यह जानना अधिक महत्वपूर्ण है कि, भारतीय उपयोगकर्ताओं के प्रोफाइल की कीमत कितनी होंगी।

 फेसबुक की लोकप्रियता में गिरावट आई है लेकिन व्यापार पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। 2018 और 2019 के वर्षों में, फेसबुक डेटा प्राइवेसी के आरोपों से घिरा हुआ था। फिर भी फेसबुक ने 2019 के अंत तक $ 6.88 बिलियन डॉलर की कमाई की थी। जिसके कारण फेसबुक की प्रॉफ़िट 30% बढ़कर $ 16.64 बिलियन डॉलर हो गई थी। दैनिक फेसबुक का उपयोग करने वाले लोग और मासिक आधार पर फेसबुक का उपयोग करने वाले सभी यूजर्स में लगभग 9% प्रतिशत की वृद्धि हुई है। अब हर दिन दो मिलियन से भी अधिक यूजर्स फेसबुक पर सक्रिय बनते हैं।

यह भी पढ़ें: जानिए नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC)/ राष्ट्रीय बचत पत्र के बारे में।

आप फेसबुक पर एक डिजिटल प्रोडक्ट बने हुए हैं। 

 जैसा कि हम इंटरनेट का गणित जानता है, फेसबुक और इसकी जैसी वेबसाइट हमारे डेटा के माध्यम से पैसा कमाती है। यह हमें मुफ्त में वेबसाइट का उपयोग तो करने देती है। लेकिन यह हमारे सभी डेटा को भी एकत्र करती है। बाद में उस डेटा के माध्यम से बनाया गया विज्ञापन दिखा कर पैसा कमाती है।

 हालाँकि, यह सुनकर कोई आपसे सवाल पूछ सकता है की, अगर फेसबुक हमारे डेटा, हमारी डिजिटल प्रोफाइल से पैसा कमा रहा है, तो इसकी लागत कितनी होगी? सीधे शब्दों में कहें, तो आपके फेसबुक अकाउंट की क़ीमत कितनी होंगी?

 आप पिछले कितने सालों से फेसबुक पर है। आपके फेसबुक में आपके सभी डेटा, आपकी पोस्ट, फोटोज और दोस्तों के साथ चैट होंगी। इसके अलावा हर एक घटना जिसमें आप शामिल होते हैं वह भी जैसे कि जब आप शादी करते हैं, जब आप कॉलेज जाते हैं, आप कितने दिनों तक किसी के साथ रिश्ते में रहे हैं। यहाँ तक ही नहीं, पर जब आप किसी लिंक पर क्लिक करते हैं तो फेसबुक के पास उसका भी डेटा होता है। फेसबुक इस सब के लिए जिम्मेदार है, इन सभी डेटा का विश्लेषण करके, फेसबुक हमें हमारी पसंदीदा वस्तुएं विज्ञापन के ज़रिए दिखाता हैं।

 अमेरिकी फेसबुक यूजर्स का डेटा औसत फेसबुक यूजर्स की तुलना में पांच गुना अधिक महंगा होता हैं।

 फेसबुक आपकी पसंद और नापसंद पोस्ट की गतिविधि का विश्लेषण करके प्रत्येक यूजर्स के लिए एक डेटा बनाता है। जो सीधे विज्ञापन कम्पनियों को बेचा जाता है। अमेरिकी लोगों की फेसबुक प्रोफाइल सामान्य फेसबुक प्रोफाइल की तुलना में पांच गुना महंगी होती हैं।


प्रत्येक यूजर्स केे माध्यम से फेसबुक कीतना पैसा कमता है। 

 सबसे पहले, फेसबुक की ख़ुद की कमाई 30 सितंबर, 2018 तक लगभग $ 52 बिलियन डॉलर प्रति वर्ष थी। जो उस साल के अंत तक लगभग $ 55 बिलियन डॉलर  तक पहुंच चुकी थी।

भारतीय फेसबुक यूजर्स के प्रोफ़ाइल की लागत क्या है?

 अगर हम एक साल पहले दर की गणना करें, तो औसत वार्षिक अमेरिकी डेटा 200 डॉलर, लगभग 14 हजार रुपये है। जबकि भारतीयों सहित औसत फेसबुक यूजर्स के प्रोफ़ाइल की लागत लगभग 2800 रुपये है। तो हर भारतीय की औसत फेसबुक प्रोफाइल की कीमत 2800 रुपये है।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेलनेस सेक्टर एक ऐसा करियर है जो जीवन में नई ऊर्जा का संचार करता है।

शरीर, मन और मस्तिष्क की थकान दूर करने और अपने जीवन को नई ऊर्जा से भरने का काम वेलनेस सेक्टर में किया जाता है। वेलनेस सेक्टर का विश्वव्यापी मार्केट 87.23 मिलियन डॉलर, यानी कि क़रीबन 6 बिलियन रुपये से अधिक है। हर युवा अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद एक अच्छी नौकरी की उम्मीद करता है। कौन नौकरी पसंद नहीं करता है जिससे लाखों रुपये का पैकेज मिलता हो, लेकिन एक अच्छी सैलॅरी वाली नौकरी पाने के लिए एक अच्छे क्षेत्र से पढ़ाई करना भी आवश्यक है ? नहीं यह सिर्फ एक गलत धारणा है, क्योंकि यह केवल इंजीनियरिंग या मैनेजमेंट में महारत हासिल करने के बाद संभव नहीं हो पाता है। वेलनेस सेक्टर से संबंधित कोर्स करके भी अच्छी आय अर्जित की जा सकती है। जबकि MBA या इंजीनियरिंग कोर्स करने वाले युवा भी इन दिनों आसानी से नौकरी नहीं पा सकते हैं, वेलनेस सेक्टर युवाओं को अच्छी नौकरी दे सकता है। यह इस कारण से है कि युवा अब वेलनेस सेक्टर को चुन रहे हैं। इस क्षेत्र में योग, ध्यान, पंचकर्म, पिलेट्स, माइंडफुलनेस, ज़ुम्बा, ज़ेन, एक्यूपंक्चर, एक्यूप्रेशर, अरोमाथेरेपी, स्पा, हीलिंग थेरेपी, फिजियोथेरेपी और रिट्रीट सेंटर जैसी कई गतिवि

अब बिना नेटवर्क के भी फोन पर कॉल की जा सकती है, VoWiFi के जरिए।

अब बिना नेटवर्क के भी फोन पर कॉल की जा सकती है, VoWiFi के जरिए। अगर आप airtel या Jio सिम कार्ड का इस्तेमाल कर रहे हैं तो यह जानकारी आपके लिए है क्योंकि आप बिना मोबाइल नेटवर्क से भी आपके मोबाइल फोन पर आराम से बात कर सकते हैं।  airtel और jio ने अपनी Voice Over WiFi सेवा VoWiFi को लॉन्च कर दिया है। अब तक 4G यूजर्स VoLTE के जरिए कॉल करते थे, यानी Voice Over LTE पर अब WiFi के जरिए वॉयस Voice Over WiFi  (VoWiFi) के जरिए भी कोल कर सकते हैं। VoWiFi क्या है? WiFi के जरिए Voice Over WiFi  (VoWiFi) अपना काम करता है। इसकी Voice Over Ip को VoIp भी कहा जाता है।  VoWiFi से आप घर के WiFi, पब्लिक WiFi और WiFi हॉटस्पॉट के उपयोग से कॉल कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपके मोबाइल में नेटवर्क नहीं है, तो आप किसी भी WiFi या हॉटस्पॉट के माध्यम से फोन पर आराम से बात कर सकते हैं। VoWiFi का सबसे बड़ा लाभ रोमिंग में होगा, क्योंकि आप मुफ्त में WiFi के माध्यम से बात करेंगे। अपने फोन पर WiFi से कैसे बात करें? अगर आपको अभी भी समझ नहीं आ रहा है कि VoWiFi कॉलिंग क्या है, तो हम आपको उदाहरण के द्वा

फ्लोरल डेकोरेशन या फ्लावर डिजाइनिंग में अपना करियर बनाइए।

फ्लोरल डेकोरेशन और फ्लावर डिजाइनिंग के बिजनेस में भी दिन-ब-दिन बढ़ोतरी हो रही है। अगर हम भारत की बात करें तो फूलों के उद्योग का बाजार 100 करोड़ रुपये से अधिक है। फूलों का उपयोग कई तरह से किया जाता है। यदि आप फूलों की सजावट में रुचि रखते हैं, तो इसमें कई करियर्स स्कोप हैं। इतना ही नहीं, आप भारत में एक फ्लावर्स डिजाइनर के रूप में अपना स्वतंत्र व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं। फूलों की सजावट को हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा कहा जा सकता है। जन्मदिन, स्वर्ण वर्षगांठ, त्योहारों, कार्यालय बैठकों, कार्यक्रमों, सम्मेलनों और शादियों में फूलों की सजावट को प्राथमिकता दी जाती है। फूलों का उपयोग दवा और कई खाद्य संबंधित वस्तुओं में भी किया जाता है। यही नहीं, फ्लोरल डेकोरेशन और फ्लावर डिजाइनिंग के बिजनेस में भी दिन-ब-दिन बढ़ोतरी हो रही है। अगर हम भारत की बात करें तो फूलों के उद्योग का बाजार 100 करोड़ रुपये से अधिक है। फूलों की सजावट की कला दुनिया भर में दशकों से है, क्योंकि फूलों और उनके सजावट का उपयोग हमारी दिनचर्या में विभिन्न सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक उत्सवों में किया जाता है। राजनीति से लेकर