सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जानिए नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC)/ राष्ट्रीय बचत पत्र के बारे में।


 हाल ही में यश बेंक के कारनामों से हम सब परिचित तो है ही
औऱ पता नहीं अब कौनसी बेंक का दिवाला निकल जाए इस खयाल से आप सब चिंतित होंगे तो आज हम इसी चिंता से आपको मुक्त करवाने हेतु यह पोस्ट लाए है।


 नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC) यह एक टैक्स सेविंग इन्वेस्टमेंट है, यहाँ पर इन्वेस्ट किए हुए आपके पैसे सीधे सरकार के पास जाते है क्योंकि पोस्ट-ऑफिस सरकार के आधीन होती हैं औऱ इससे आपके पैसे को बहोत सेफ्टी मिलती है। राष्ट्रीय बचत पत्र (NSC) जिसे कोई भी भारतीय अपनी नजदीकी पोस्ट-ऑफिस से खरीद सकता है। भारत सरकार द्वारा समर्थित राष्ट्रीय बचत पत्र एक निश्चित रिटर्न और कम जोखिम वाला निवेश हैं।

 NSC आमतौर पर कम जोखिम वाले औऱ फिक्स्ड रिटर्न प्राप्त करने वाले निवेशकों की पहली पसंद है।

50 रुपए की NSC की छवि

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC) के बारे में कुछ ख़ास बातें।

 पहले NSC दो अवधि में उपलब्ध थे 5 वर्ष (NSC VIII) और 10 वर्ष (NSC IX)। NSC IX के बंद होने के साथ, वर्तमान में केवल 5 वर्ष की NSC उपलब्ध है।


  •  NSC को किसी भी भारतीय पोस्ट-ऑफिस से प्राप्त किया जा सकता है, और इसका मेच्योरिटी काल 5 साल है।
  •  मिनिस्ट्री ऑफ फाइनांस की घोषणाओं के अनुसार ब्याज दर हर साल परिवर्तन के अधीन होगा।
  •  न्यूनतम NSC निवेश 100 रुपये है, औऱ अधिकतम निवेश की कोई सीमा तय नहीं है।
  •  इनकमटैक्स अधिनियम, 1961 की धारा 80C के तहत NSC द्वारा टैक्स में बचत के लिए सालाना 1.5 लाख की मर्यादा तय की गई है।
  •  ब्याज सालाना इसमें जमा किया जाता है, लेकिन बिना किसी TDS कटौती के साथ केवल परिपक्वता पर धन राशि का भुगतान किया जाता है।


नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट के प्रकार।

 सिंगल होल्डर टाइप सर्टिफिकेट: सिंगल होल्डर सर्टिफिकेट किसी निवेशक द्वारा स्वयं या नाबालिक बच्चे के लिए उसके गार्डियन की औऱ खरीदा जा सकता है।

 जॉइंट ऐ टाइप सर्टिफिकेट: इस मामले में, सर्टिफिकेट कि मैच्योरिटी की रकम बराबर हिस्सेदारी वाले दो निवेशकों को मिलती है।

 जॉइंट बी टाइप सर्टिफिकेट: यह भी एक जॉइंट होल्डिंग सर्टिफिकेट है, हालांकि मैच्योरिटी की रकम का भुगतान केवल एक धारक को ही किया जाता है।

यह भी पढ़ें: यह 5 स्किल जो लोकडाउन के समय घऱ पर बैठ कर आप सीख़ सकते हों।

राष्ट्रीय बचत पत्र पर निवेश हेतु शर्ते।

 सभी भारतीय निवासी NSC में निवेश करने के लिए पात्र हैं।
नॉन रेसिडेंट भारतीय नए NSC नहीं खरीद सकते। हालांकि, NRI को भारतीय निवासी बनने के मामले में, NSC परिपक्वता तक अपना पक्ष रखना होगा।

 कोई ट्रस्ट और हिंदू अविभाजित परिवार (HUF) NSC में निवेश नहीं कर सकते हैं। HUF (Hindu Undivided Family) के कर्ता NSC में निवेश केवल अपने नाम से कर सकते हैं।

राष्ट्रीय बचत पत्र पर निवेश करने के लाभ।


  • NSC भारत सरकार द्वारा समर्थित एक लगभग जोखिम मुक्त निवेश है।
  • NSC फिक्स्ड रेट इंस्ट्रूमेंट के बीच सबसे अधिक रिटर्न दर देता है।
  • 100 रुपये की कम न्यूनतम निवेश आवश्यकता और अधिकतम सीमा की कोई मर्यादा न होने के कारण NSC फ्लेक्सिबल है।
  • NSC की खरीदारी आसानी से उपलब्ध हैं जो कि किसी भी भारतीय पोस्ट-ऑफिस में की जा सकती है।
  • ये सर्टिफिकेट नाबालिग के नाम से भी खरीदे जा सकते हैं।
  • सालाना 1.5 लाख रुपये तक के निवेश पर कर कटौती का लाभ देता है।


100 रुपए के NSC कि छवि

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में निवेश कैसे करें?

 NSC आवेदन पत्र भरें NSC आवेदन पत्र ऑनलाइन और साथ ही सभी पोस्ट-ऑफिस में ऑफ़लाइन उपलब्ध है।

 वेरिफिकेशनके लिए आवश्यक KYC दस्तावेजों की सेल्फ़ वेरिफाइड ज़ेरॉक्स नकल जमा करें।

 नकद या चेक द्वारा निवेश की जाने वाली राशि का भुगतान करें।

 एक बार प्रमाण पत्र खरीदने के बाद लागू राशियों के NSC मुद्रित होते हैं और पोस्ट-ऑफिस से एकत्र किए जा सकते हैं।



नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC) के लिए कौनसे दस्तावेज़ आवश्यक होंगे।


  1. पूरी तरह से NSC आवेदन पत्र भरा हुआ।
  2. वर्तमान तस्वीर पासपोर्ट साईज की
  3. पहचान प्रमाण हेतु – आधार कार्ड, पैन कार्ड आदि।
  4. पता प्रमाण हेतु – आधार कार्ड, वॉटर आई.डी कार्ड आदि।
  5. निवेश राशि का नकद या चेक जमा।


 राष्ट्रीय बचत पत्र के बारे में और अधिक जानकारी पाने के लिए नजदीकी पोस्ट-ऑफिस से संपर्क करें या फिर इंडियन पोस्ट की ऑफिशल वेबसाइट https://www.indiapost.gov.in/ पर विजिट करें।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेलनेस सेक्टर एक ऐसा करियर है जो जीवन में नई ऊर्जा का संचार करता है।

शरीर, मन और मस्तिष्क की थकान दूर करने और अपने जीवन को नई ऊर्जा से भरने का काम वेलनेस सेक्टर में किया जाता है। वेलनेस सेक्टर का विश्वव्यापी मार्केट 87.23 मिलियन डॉलर, यानी कि क़रीबन 6 बिलियन रुपये से अधिक है। हर युवा अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद एक अच्छी नौकरी की उम्मीद करता है। कौन नौकरी पसंद नहीं करता है जिससे लाखों रुपये का पैकेज मिलता हो, लेकिन एक अच्छी सैलॅरी वाली नौकरी पाने के लिए एक अच्छे क्षेत्र से पढ़ाई करना भी आवश्यक है ? नहीं यह सिर्फ एक गलत धारणा है, क्योंकि यह केवल इंजीनियरिंग या मैनेजमेंट में महारत हासिल करने के बाद संभव नहीं हो पाता है। वेलनेस सेक्टर से संबंधित कोर्स करके भी अच्छी आय अर्जित की जा सकती है। जबकि MBA या इंजीनियरिंग कोर्स करने वाले युवा भी इन दिनों आसानी से नौकरी नहीं पा सकते हैं, वेलनेस सेक्टर युवाओं को अच्छी नौकरी दे सकता है। यह इस कारण से है कि युवा अब वेलनेस सेक्टर को चुन रहे हैं। इस क्षेत्र में योग, ध्यान, पंचकर्म, पिलेट्स, माइंडफुलनेस, ज़ुम्बा, ज़ेन, एक्यूपंक्चर, एक्यूप्रेशर, अरोमाथेरेपी, स्पा, हीलिंग थेरेपी, फिजियोथेरेपी और रिट्रीट सेंटर जैसी कई गतिवि

अब बिना नेटवर्क के भी फोन पर कॉल की जा सकती है, VoWiFi के जरिए।

अब बिना नेटवर्क के भी फोन पर कॉल की जा सकती है, VoWiFi के जरिए। अगर आप airtel या Jio सिम कार्ड का इस्तेमाल कर रहे हैं तो यह जानकारी आपके लिए है क्योंकि आप बिना मोबाइल नेटवर्क से भी आपके मोबाइल फोन पर आराम से बात कर सकते हैं।  airtel और jio ने अपनी Voice Over WiFi सेवा VoWiFi को लॉन्च कर दिया है। अब तक 4G यूजर्स VoLTE के जरिए कॉल करते थे, यानी Voice Over LTE पर अब WiFi के जरिए वॉयस Voice Over WiFi  (VoWiFi) के जरिए भी कोल कर सकते हैं। VoWiFi क्या है? WiFi के जरिए Voice Over WiFi  (VoWiFi) अपना काम करता है। इसकी Voice Over Ip को VoIp भी कहा जाता है।  VoWiFi से आप घर के WiFi, पब्लिक WiFi और WiFi हॉटस्पॉट के उपयोग से कॉल कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपके मोबाइल में नेटवर्क नहीं है, तो आप किसी भी WiFi या हॉटस्पॉट के माध्यम से फोन पर आराम से बात कर सकते हैं। VoWiFi का सबसे बड़ा लाभ रोमिंग में होगा, क्योंकि आप मुफ्त में WiFi के माध्यम से बात करेंगे। अपने फोन पर WiFi से कैसे बात करें? अगर आपको अभी भी समझ नहीं आ रहा है कि VoWiFi कॉलिंग क्या है, तो हम आपको उदाहरण के द्वा

फ्लोरल डेकोरेशन या फ्लावर डिजाइनिंग में अपना करियर बनाइए।

फ्लोरल डेकोरेशन और फ्लावर डिजाइनिंग के बिजनेस में भी दिन-ब-दिन बढ़ोतरी हो रही है। अगर हम भारत की बात करें तो फूलों के उद्योग का बाजार 100 करोड़ रुपये से अधिक है। फूलों का उपयोग कई तरह से किया जाता है। यदि आप फूलों की सजावट में रुचि रखते हैं, तो इसमें कई करियर्स स्कोप हैं। इतना ही नहीं, आप भारत में एक फ्लावर्स डिजाइनर के रूप में अपना स्वतंत्र व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं। फूलों की सजावट को हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा कहा जा सकता है। जन्मदिन, स्वर्ण वर्षगांठ, त्योहारों, कार्यालय बैठकों, कार्यक्रमों, सम्मेलनों और शादियों में फूलों की सजावट को प्राथमिकता दी जाती है। फूलों का उपयोग दवा और कई खाद्य संबंधित वस्तुओं में भी किया जाता है। यही नहीं, फ्लोरल डेकोरेशन और फ्लावर डिजाइनिंग के बिजनेस में भी दिन-ब-दिन बढ़ोतरी हो रही है। अगर हम भारत की बात करें तो फूलों के उद्योग का बाजार 100 करोड़ रुपये से अधिक है। फूलों की सजावट की कला दुनिया भर में दशकों से है, क्योंकि फूलों और उनके सजावट का उपयोग हमारी दिनचर्या में विभिन्न सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक उत्सवों में किया जाता है। राजनीति से लेकर