सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

फ्लोरल डेकोरेशन या फ्लावर डिजाइनिंग में अपना करियर बनाइए।

फ्लोरल डेकोरेशन और फ्लावर डिजाइनिंग के बिजनेस में भी दिन-ब-दिन बढ़ोतरी हो रही है। अगर हम भारत की बात करें तो फूलों के उद्योग का बाजार 100 करोड़ रुपये से अधिक है।

फूलों का उपयोग कई तरह से किया जाता है। यदि आप फूलों की सजावट में रुचि रखते हैं, तो इसमें कई करियर्स स्कोप हैं। इतना ही नहीं, आप भारत में एक फ्लावर्स डिजाइनर के रूप में अपना स्वतंत्र व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं। फूलों की सजावट को हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा कहा जा सकता है। जन्मदिन, स्वर्ण वर्षगांठ, त्योहारों, कार्यालय बैठकों, कार्यक्रमों, सम्मेलनों और शादियों में फूलों की सजावट को प्राथमिकता दी जाती है। फूलों का उपयोग दवा और कई खाद्य संबंधित वस्तुओं में भी किया जाता है। यही नहीं, फ्लोरल डेकोरेशन और फ्लावर डिजाइनिंग के बिजनेस में भी दिन-ब-दिन बढ़ोतरी हो रही है।

अगर हम भारत की बात करें तो फूलों के उद्योग का बाजार 100 करोड़ रुपये से अधिक है। फूलों की सजावट की कला दुनिया भर में दशकों से है, क्योंकि फूलों और उनके सजावट का उपयोग हमारी दिनचर्या में विभिन्न सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक उत्सवों में किया जाता है। राजनीति से लेकर शिक्षा तक हर चीज में फूल महत्वपूर्ण हैं। कई कारणों से, फूलों की डिजाइनिंग के व्यवसाय ने युवाओं को अपनी औऱ आकर्षित किया हैं।


फ्लोरल डेकोरेशन की शिक्षा में क्या आता है ?

इस क्षेत्र के लिए पात्रता मानदंड निर्धारित नहीं किए गए हैं। लेकिन ऐसे पेशेवर जिन्होंने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड में 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण की हो और इस क्षेत्र से संबंधित किसी विषय में स्नातक की डिग्री प्राप्त की हो, उन्हें अधिक उपयुक्त माना जाता है।यहाँ पेशेवरों के लिए एज्युकेशन योग्यता सर्वश्रेष्ठ बनी हुई है।


फ्लोरल डेकोरेशन के पाठ्यक्रम संबंधी जानकारी:

भारत में कई कॉलेज और विश्वविद्यालय हैं जिनमें युवा इस से जुड़ी शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं।

करियर फ़ील्ड्स:

  • सर्टिफिकेट - फूलों की खेती
  • सर्टिफिकेट - फ्लोरिकल्चर टेक्नोलॉजी
  • B.Sc.- फूलों की खेती
  • B.Sc.- फ्लोरिकल्चर और लैंडस्केपिंग
  • M.Sc.- फ्लोरिकल्चर बिजनेस मैनेजमेंट
  • M.Sc.- फूलों की खेती और भूनिर्माण

कहा से इसकी शिक्षा प्राप्त की जाए ? ( प्रमुख शिक्षा संस्थान )

  • मुद्रा इंस्टीट्यूट ऑफ कम्युनिकेशंस, अहमदाबाद
  • मुद्रा इंस्टीट्यूट ऑफ कम्युनिकेशंस, अहमदाबाद एफ.एन.पी.
  • फ्लोरल डिज़ाइन स्कूल, नई दिल्ली
  • इंस्टीट्यूट ऑफ फ्लोरल डिजाइन, महाराष्ट्र
  • ए.पी.जे. इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, नई दिल्ली
  • मेगा फ्लावर बॉक्स, बैंगलोर, कर्नाटक

यह भी पढ़ें: वेलनेस सेक्टर एक ऐसा करियर है जो जीवन में नई ऊर्जा का संचार करता है।


क्या क्या कौशल चाहिए फ्लोरल डेकोरेशन के लिए ?

  • रचनात्मकता: नई फ्लावर डिजाइनिंग में भी नए विचारों की आवश्यकता होती है। आप केवल नई चीजें कर सकते हैं यदि आपका दिमाग रचनात्मक है।
  • कलात्मक स्पर्श: सरल फूलों के साथ खूबसूरती से डिजाइन करने की क्षमता आपको सफल बनाती है। साथ ही फूलों और पौधों का अच्छा ज्ञान आवश्यक है।
  • सामग्री की समझ: पुष्प सामग्री और नवीनतम उपकरणों की जानकारी और उपयोग की उचित समझ।
  • मैनेजमेंट: टाइम मैनेजमेंट और कॉम्युनिकेशन स्किल्स अच्छा होना चाहिए। इसके अलावा ग्राहक सेवा में एक विशेषज्ञ होने की भी जरूरत है। अगर आप इसमें महारत हासिल करते हैं तो आपका काम बेहतर होगा।
  • ट्रेंड्स: फूलों की सजावट में नए ट्रेंड्स और पैटर्न से अच्छी तरह से परिचित होना भी महत्वपूर्ण है।


फ्लावर डिजाइनिंग में कौनसी कम्पनिया आपको जॉब देगी ?

फ्लोरल डिजाइनिंग में पसंद का कोर्स करना जॉब प्रोफाइल के लिए उपयुक्त उम्मीदवार हो सकता है। इनमें इंटीरियर डेकोरेटर्स, लैंडस्केप डिजाइनर फ्लावर्स, फ्लावर डीलर्स, इवेंट ऑर्गनाइजर्स, फ्लोरल अरेंजर्स, फ्लोरिस्ट्स और फ्लोरिस्ट डेकोरेटर्स जैसे कोर्स शामिल हैं।


कैरियर विकल्प और रिक्रूटमेंट एजेंसियां

  • फार्मा कंपनियां
  • कृषि महाविद्यालय और विश्वविद्यालय
  • नर्सरी
  • जेनेटिक कंपनियां
  • कृषि उत्पाद कंपनियां
  • अनुसंधान संस्थान
  • बोटैनिकल गार्डन
  • कॉस्मेटिक और इत्र निर्माण
  • भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान
  • बिड़ला फ्लोरिकल्चर
  • टर्बो उद्योग
  • जैव ऊर्जा अनुसंधान संस्थान


फ्लोरल डेकोरेशन में सैलॅरी पैकेज कितना होगा ?

फ्लोरल डेकोरेशन में उपयुक्त कोर्स करके अपना व्यवसाय शुरू करने वाले पेशेवर प्रति माह 2-3 लाख रुपये और अधिक कमा सकते हैं। कभी-कभी पेशेवर एक बड़े इवेंट की फ्लोरल डेकोरेशन से आसानी से एक से दो लाख रुपये कमा लेते हैं। एक एजेंसी में फ्लोरल डेकोरेशन के रूप में नौकरी पाने वाले पेशेवरों को शुरुआत में 15,000 रुपये से 20,000 रुपये प्रति माह वेतन मिलता है। अनुभव और अच्छे काम के आधार पर वेतन बढ़ता रहता है। अधिकांश पेशेवर अनुभव प्राप्त करने के लिए किसी एजेंसी से जुड़ना अधिक उचित समझते हैं, क्योंकि कोई डिग्री प्राप्त करके केवल फ्लावर डिजाइनर नहीं बन सकता है। इसके लिए आपको विभिन्न कार्यक्रमों का अनुभव प्राप्त करना होगा। इसमें नौकरी के अलावा अपने स्वयं के व्यवसाय में पैसा लगाना अपने अनुभव से अधिक उपयुक्त रहता है।


वर्तमान समय में फ्लोरल डेकोरेशन का महत्व बढ़ रहा है। साथ ही इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए इस विषय में रुचि रखने वाले युवाओं के लिए यह एक सुनहरा अवसर बन सकता है।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अब बिना नेटवर्क के भी फोन पर कॉल की जा सकती है, VoWiFi के जरिए।

वेलनेस सेक्टर एक ऐसा करियर है जो जीवन में नई ऊर्जा का संचार करता है।

FASTag के बारे में सारी जानकारी।